100+ Netaji Subhash Chandra Bose Quotes In Hindi | सुभाष चन्द्र बोस के अनमोल सुविचार

Netaji Subhash Chandra Bose Quotes In Hindi: आज के इस लेख में आपके लिए सुभाष चन्द्र बोस के अनमोल सुविचार लेके आए है। इस तरह की सुभाष चन्द्र बोस के अनमोल सुविचार आपको मिलना मुश्किल है। आप यह लेख अपने मित्रो के साथ साझा कर सकते हैं।

Netaji Subhash Chandra Bose Quotes In Hindi

netaji subhash chandra bose quotes in hindi

हमारी राह भले ही भयानक और पथरीली हो,
हमारी यात्रा चाहे कितनी भी कष्टदायक हो,
फिर भी हमें आगे बढ़ना ही है,
सफलता का दिन दूर हो सकता है,
पर उसका आना अनिवार्य है।

अपने कॉलेज जीवन की देहलीज पर खड़े होकर मुझे अनुभव हुआ,
जीवन का कोई अर्थ और उद्देश्य है।

ऐसे सिपाही जो अपने देश के प्रति हमेशा वफादार रहते हैं,
और देश के लिए बलिदान देने के लिए हमेशा तैयार रहते हैं,
उन्हें कभी हराया नहीं जा सकता है।

कॉंग्रेस के महासचिव के रूप में सुभाषचंद्र बोस और,
पंडित जवाहरलाल नेहरू को चुना गया जिसके,
कारन इन दोनों नेताओ का आत्मबल और बढ़ा।

जिसके लहू का हर कतरा मुल्क के खातिर और इरादे आज़ाद है,
रखते, नाम काफी है दुश्मनों में खौफ़ के लिए,
क्योंकि सुभाष चन्द्र बोस कभी मरा नही करते।

जो भी तुम कुछ करते हो यह तुम्हारा कर्म है,
इसमें किसी भी प्रकार का कोई बटवारा नही होता है,
इसका फल भी तुम्हे ही भोगना है।

Subhash Chandra Bose Thought

हमारा यह कर्तव्य है,
की अपने स्वतंत्रता की रक्षा अपने खून से चुकाने के लिए तैयार रहे,
हमे जो भी आजादी मिली है,
उसकी हर हाल में रक्षा करना हमारा परम कर्तव्य है।

कभी-कभी इस बात पर विश्वास करना,
कठिन हो जाता है कि,
बुरी खबर के पीछे अच्छी खबर है,
लेकिन यह हमें समझना होगा,
वास्तव में बुरी खबर के पीछे अच्छी खबर छिपी है।

हमारे पास आज एक इच्‍छा होनी चाहिए- मरने की इच्‍छा,
ताकि भारत जी सके। शहीद होने की इच्‍छा,
ताकि स्‍वतंत्रता के मार्ग को शहीद के खून से पक्‍का किया जा सके।

मुझे जीवन में एक निश्चित लक्ष्य को पूरा करना है,
मेरा जन्म उसी के लिए हुआ है,
मुझे नैतिक विचारों की धारा में नहीं बहना है।

जीवन में प्रगति का आशय यह है की शंका संदेह उठते रहें,
और उनके समाधान के प्रयास का क्रम चलता रहे।

एक व्यक्ति एक विचार के लिए मर सकता है,
लेकिन वह विचार उसकी मृत्यु के बाद,
एक हजार जीवन में खुद को अवतार लेगा।

मेरे मन में कोई संदेह नहीं है कि हमारे देश की प्रमुख समस्याएं गरीबी,
अशिक्षा, बीमारी, कुशल उत्पादन एवं,
वितरण सिर्फ समाजवादी तरीके से ही की जा सकती है।

Subhash Chandra Bose Vichar

मां के प्यार से कौन अनभिज्ञ है,
जिस प्रकार हम अपनी,
जननी से प्यार करते हैं,
मातृभूमि तो सब की जननी है,
फिर उससे प्रेम क्यों नहीं ?

परीक्षा का समय निकट देख कर हम बहुत घबराते हैं,
लेकिन एक बार भी यह नहीं सोचते की जीवन का प्रत्येक पल परीक्षा का है,
यह परीक्षा ईश्वर और धर्म के प्रति है,
स्कूल की परीक्षा तो दो दिन की है,
परन्तु जीवन की परीक्षा तो अनंत काल के लिए देनी होगी,
उसका फल हमें जन्म-जन्मान्तर तक भोगना पड़ेगा।

अपने मस्तिष्क का प्रयोग,
आशावादी विचारों के लिए कीजिए,
अपने मस्तिष्क को नियंत्रण में कीजिए,
और अपने भीतर,
नकारात्मक भाव को पैदा ना होने दीजिए।

हम सभी के अंदर बस एक इच्छा होनी चाहिए,
मरने की इच्छा ताकि भारत जी सके,
एक सैनिक के शाहदत से ही देश हमेसा जिन्दा खड़ा रहता है।

मुझे यह नहीं मालूम की,
स्वतंत्रता के इस युद्ध में हममे से कौन कौन जीवित बचेंगे,
परन्तु में यह जानता हूँ,
अंत में विजय हमारी ही होगी।

मुझे ये देखकर बहुत दुःख होता है कि मनुष्य,
जीवन पाकर भी उसका अर्थ समझ नहीं पाया है,
यदि आप अपनी मंजिल पर ही पंहुच नहीं पाए,
तो हमारें इस जीवन का क्या मतलब।

यह हमारा कर्तव्य है कि हम,
अपनी स्वतंत्रता का भुगतान अपने रक्त से करें,
आपके बलिदान और परिश्रम के माध्यम से हम जो स्वतंत्रता जीतेंगे,
हम अपनी शक्ति के साथ संरक्षित करने में सक्षम होंगे।

Subhash Chandra Bose Slogan

यदि खुद के स्वाभिमान को जानना है,
तो किसी मछली से सीख सकते हो यह सिर्फ जल,
और स्थान बदलने पर भी अपने मातृभूमि के लिए,
तड़प तड़प के अपनी जान गवा देती है।

मैंने अमूल्य जीवन का इतना समय व्यर्थ ही नष्ट कर दिया,
यह सोच कर बहुत ही दुःख होता है,
कभी कभी यह पीड़ा असह्य हो उठती है,
मनुष्य जीवन पाकर भी जीवन का अर्थ समझ में नहीं आया,
यदि मैं अपनी मंजिल पर नहीं पहुँच पाया,
तो यह जीवन व्यर्थ है, इसकी क्या सार्थकता है ?

जीवन में प्रगति का आशय यह है की शंका संदेह उठते रहें,
और उनके समाधान के प्रयास का क्रम चलता रहे।

मैं संकट एवं विपदाओं से भयभीत नहीं होता,
संकटपूर्ण दिन आने पर भी मैं भागूँगा नहीं,
वरन आगे बढकर कष्टों को सहन करूँगा।

ये हमारा कर्तव्‍य है कि हम अपनी स्‍वतंत्रता का मोल अपने खून से चुकाएं,
हमें अपने बलिदान और परिश्रम से जो आजादी मिलेगी,
हमारे अंदर उसकी रक्षा करने की ताकत होनी चाहिए।

सुभाष चन्द्र बोस वीर है, योगी है, त्यागी है,
और सन्यासी है,
भारत के हर दिल में बसने वाले सबसे प्यारे भारतवासी है।

हमे ये नही पता की आजादी की इस लड़ाई में,
कौन कौन जिन्दा बचेगा लेकिन यह जरुर पता है,
की एक दिन आजादी हमे ही मिलेगी।

जिस व्यक्ति में सनक नहीं होती,
वह कभी भी महान नहीं बन सकता,
परन्तु सभी पागल व्यक्ति महान नहीं बन जाते,
क्योंकि सभी पागल व्यक्ति प्रतिभाशाली नहीं होते,
आखिर क्यों ? कारण यह है की केवल पागलपन ही काफी नहीं है,
इसके अतिरिक्त कुछ और भी आवश्यक है।

हमारा सफर कितना ही भयानक और बदतर क्यों न हो,
फिर भी हमें आगे बड़ते ही रहना चाहिए,
सफलता का सफर लम्बा हो सकता है,
लेकिन उसका आना अनिवार्य है।

चलो फिर से आज वो नजारा याद कर लें,
शहीदों के दिल में थी वो ज्वाला याद कर लें,
जिसमें बहकर आज़ादी पहुंची थी किनारे पे,
देशभक्तों के खून की वो धारा याद कर लें।

मेरे मन में कोई संदेह नहीं है,
कि हमारे देश की प्रमुख समस्याएं गरीबी,
अशिक्षा, बीमारी, कुशल उत्पादन एवं वितरण सिर्फ,
समाजवादी तरीके से ही की जा सकती है।

मैंने अपने अनुभवों से सीखा है,
जब भी जीवन भटकता हैं,
कोई न कोई किरण उबार लेती है,
और जीवन से दूर भटकने नहीं देती।

NetaJi Subhash Chandra Bose Hindi Quotes

मेरे मन में कोई संदेह नहीं है कि हमारे देश की प्रमुख समस्याएं गरीबी,
अशिक्षा, बीमारी, कुशल उत्पादन,
एवं वितरण सिर्फ समाजवादी तरीके से ही की जा सकती है।

किसी भी चीज को जब हम मूल्य चुका कर प्राप्त करते हैं,
तो हम उसकी रक्षा के लिए संकल्प बद्ध होते हैं,
हमें स्वतंत्रता भी अपने खून का मूल्य चुका कर लेना होगा।

जीवन में प्रगति का आशय यह है की शंका संदेह उठते रहें,
और उनके समाधान के प्रयास का क्रम चलता चाहिए,
हम संघर्षों और उनके समाधानों द्वारा ही आगे बढ़ते रहना चाहिए।

नहीं सिर्फ जश्न मनाना, नहीं सिर्फ झंडे लहराना,
ये काफी नहीं है वतन पर, यादों को नहीं भुलाना,
जो कुर्बान हुए उनके लफ़्ज़ों को आगे बढ़ाना,
खुद के लिए नहीं, जिंदगी वतन के लिए लुटाना।

सफलता हमेशा असफलता के स्तंभ पर खड़ी होती है,
इसलिए किसी को असफलता से घबराना नहीं चाहिए।

आज की स्थिति में प्रत्येक भारतवासी के भीतर,
एक ही इच्छा होनी चाहिए,
वह है मरने की इच्छा,
जिससे वह जीवन पर्यंत भारत माता की,
स्वतंत्रता के लिए प्रयत्न करेंगे।

किसी भी युद्ध को मातृ शक्ति के बिना,
जीता नहीं जा सकता,
ईश्वरीय कृपा हम सभी पर है,
और युद्ध में मातृशक्ति का साथ है,
यह हमारे विजय का संकेत है।

मुझे यह नहीं मालूम कि स्वतंत्रता के,
इस युद्ध में हममें से कौन -कौन जीवित बचेंगे,
परंतु मैं यह जानता हूं कि अंत में विजय हमारी ही होगी।

जिस व्यक्ति के अंदर ‘सनक’ नहीं होती
वो कभी महान नहीं बन सकता,
लेकिन उसके अंदर, इसके आलावा भी,
कुछ और होना चाहिए।

लिख रहा हूं मैं अजांम जिसका कल आगाज आएगा,
मेरे लहू का हर एक कतरा इकंलाब लाएगा,
मैं रहूं या न रहूं पर ये वादा है तुमसे मेरा कि,
मेरे बाद वतन पर मरने वालों का सैलाब आएगा।

उस दिन लोगों ने सही-सही खून की कीमत पहचानी थी,
जिस दिन सुभाष ने बर्मा में मांगी उनसे कुर्बानी थी।

Netaji Hindi Quotes On Mother

आज हमारे पास एक इच्छा होनी चाहिए ‘मरने की इच्छा,
क्योंकि मेरा देश जी सके,
एक शहीद की मौत का सामना करने की शक्ति,
क्योंकि स्वतंत्रता का मार्ग शहीद के खून से प्रशस्त हो सके।

बचपन और युवावस्था एक ऐसी अवस्था है,
जिसमे सबसे अधिक संयम और पवित्रता की आवश्कयता होती है।

वो पराधीनता का दौर था,
जब युवा आजादी को अपना लक्ष्य मानते थे,
अब देश आजाद है,
अब युवाओं का लक्ष्य,
देश की तरक्की होनी चाहिए।

हौसला बारूद रखते हैं,
वतन के कदमों में जान मौजूद रखते हैं,
हस्ती तक मिटा दे दुशमन की,
हम फौजी हैं फौलादी जिगर रखते हैं।

अजेय (कभी न मरने वाले) हैं वो सैनिक जो,
हमेशा अपने राष्ट्र के प्रति वफादार रहते हैं,
जो हमेशा अपने जीवन का बलिदान करने के लिए तैयार रहते हैं।

एक सैनिक के रूप में आपको हमेशा तीन आदर्शों को संजोना,
और उन पर जीना होगा सच्चाई, कर्तव्य और बलिदान,
जो सिपाही हमेशा अपने देश के प्रति वफादार रहता है,
जो हमेशा अपना जीवन बलिदान करने को तैयार रहता है, वो अजेय है,
अगर तुम भी अजेय बनना चाहते हो, तो इन तीन आदर्शों को अपने ह्रदय में समाहित कर लो।

मेरे जीवन के अनुभवों में एक यह भी है,
कि मुझे यह आशा है कि कोई-न-कोई किरण उबार लेती है,
और जीवन से दूर भटकने नहीं देती।

उम्मीद करते है की, आपको यह हमारा सुभाष चन्द्र बोस के अनमोल सुविचार आपको जरूर पसंद आया होगा। आप हमारा यह लेख अपने मित्रो के साथ साझा कर सकते है, और हमें कमेंट में बता सकते है आपको हमारा यह लेख कैसा लगा।

Leave a Comment