150+ Gulzar Quotes in Hindi | गुलज़ार कोट्स हिंदी में

Gulzar Quotes in Hindi: आज के इस लेख में आपके लिए गुलज़ार कोट्स हिंदी में लेके आए है। इस तरह की गुलज़ार कोट्स हिंदी में आपको मिलना मुश्किल है। आप यह लेख अपने मित्रो के साथ साझा कर सकते हैं।

Gulzar Quotes

gulzar quotes in hindi

वह इंसानियत ही क्या जो,
इंसान के दुख में साथी ना हो,
जन्नत का नूर बरसता है उस पर,
जो इंसान दुख में भागीदारी हो।

बस एक मेरी महोबत ही,
ना समझ पाये तुम,
बाकी मेरी हर ग़लती का,
हिसाब बराबर ऱखते हो।

हर जगह इत्र ही नही महका करते,
कभी-कभी शख्सियत भी खुशबू दे जाती है।

उस से कहना,
इतना कहा और फिर गर्दन नीची कर के,
देर तलक वो पैर के अँगूठे से मिट्टी खोद-खोदके,
बात का कोई बीज था, शायद, ढूंढ़ रही थी,
देर तलक खामोश रही,
नाक से सिसकी पोंछ के आख़िर,
गर्दन को कन्धे पर डाल के बोली,
बस इतना कह देना।

लौटने का ख्याल भी आए,
तो बस चले आना,
इंतजार आज भी बड़ी,
बेसब्री से है तुम्हारा।

लड़ना चाहता हूँ अपनों से पर डरता हूँ,
कही जीता गया तो हार जाऊंगा।

जिंदगी एक बार मिलती है,
यह बात बिल्कुल गलत है,
सिर्फ मौत है जो एक बार मिलती है,
जिंदगी तो हर रोज मिलती है।

Deep Gulzar Quotes

मेरा ख्याल है अभी, झुकी हुई निगाह में,
खिली हुई हँसी भी है, दबी हुई सी चाह में,
मैं जानता हूं, मेरा नाम गुनगुना रही है वो,
यही ख्याल है मुझे, के साथ आ रही है वो।

छोटा सा साया था, आँखों में आया था,
हमने दो बूंदों से मन भर लिया।

काँच के पीछे चाँद भी था और काँच के ऊपर काई भी,
तीनों थे हम वो भी थे और मैं भी था तन्हाई भी।

बदले हवाएं, फिजाएं, मौसम रुख अपना,
पर तुम ऐसे ही रहना,
लिख दूं तेरे इश्क पर किताब कई,
गुलजार ना बन जाऊं तो कहना।

मैं कभी सिगरेट पीता नहीं,
मगर हर आने वाले से पूछ लेता हूँ कि माचिस है?
बहुत कुछ है जिसे मैं फूँक देना चाहता हूँ।

ल़की़रें है़ तो रह़ने दो,
कि़सी ने़ रू़ठ कर गुस्से़ में शायद़ खींच दी़ थी,
उन्ही को अब बनाओ पाला़, औऱ आ़ओ क़बड्डी खेल़ते हैं।

मेरे किरदार से वाकिफ़ होने की कोशिश मत कर,
उसे समझने में दिल लगेगा और तुम दिमाग लगते हो।

Reality Gulzar Quotes On Life

शाम से आँख में नमी सी है,
आज फिर आप की कमी सी है,
दफ़्न कर दो हमें के साँस मिले,
नब्ज़ कुछ देर से थमी सी है।

मैं हर रात सारी ख्वाहिशों को,
खुद से पहले सुला देता हूँ,
मगर रोज़ सुबह ये मुझसे पहले जाग जाती हैं।

कोई जिस्म पर अटक गया ,कोई दिल पर अटक गया,
इश्क उसका ही मुकमल हुआ जो रूह तक पहुच गया।

बड़े महंगे किरदार है जिंदगी के साहब,
समय-समय पर सब के भाव बढ़ जाते है।

अलग ही इज्जत है चाय में,
इलाइची की भी,
हर किसी के लिए नहीं,
डाली जाती।

ज़ख्म और दर्द को गहना और लिबास बनाकर पेश करना,
शायद आप सिर्फ Gulzar Ki Shayari में ही पाएंगे।

घर में अपनों से उतना ही रूठो,
कि आपकी बात और दूसरों की इज्जत,
दोनों बरक़रार रह सके।

Zindagi Gulzar Quotes

तुम्हें जिंदगी के उजाले मुबारक,
अंधेरे हमें आज रास आ गए हैं,
तुम्हें पा के हम खुद से दूर हो गए थे,
तुम्हें छोड़कर अपने पास आ गए हैं।

एक तरफ़ा मोहब्बत में लोग बदनाम नहीं होते,
बस इसी बात का सुकून है मन को।

वक़्त रहता नहीं कहीं टिक कर,
आदत इस की भी आदमी सी है।

सामने आए मेरे, देखा मुझे, बात भी की,
मुस्कुराए भी, पुरानी किसी पहचान की ख़ातिर,
कल का अख़बार था, बस देख लिया, रख भी दिया।

आइने के सामने खड़े होकर,
खुद से ही माफी मांग ली मैंने,
सबसे ज्यादा अपना ही दिल दुखाया है,
औरों को खुश करते करते।

महफ़िल में गले मिलकर वह धीरे से कह गए,
यह दुनिया की रस्म है, इसे मुहोब्बत मत समझ लेना।

अक़्सर ज़ख्म वही लोग देकर जाते हैं,
जो शुरुआत में बड़े प्यार से पेश आते हैं।

Life Deep Gulzar Quotes

मुश्किल वक़्त में भी,
जिसने मुस्कुराना सीख लिया दुनिया की,
कोई ताकत उसे हरा नहीं सकती।

अपने दर्द को मुस्कुरा कर सहना क्या सीख लिया हमनें,
लोगों को लगने लगा कि हमें दर्द ही नहीं होता।

पता चल गया है के मंज़िल कहां है,
चलो दिल के लंबे सफ़र पे चलेंगे,
सफ़र ख़त्म कर देंगे हम तो वहीं पर,
जहाँ तक तुम्हारे कदम ले चलेंगे।

नजर भी ना आऊं,
इतना भी दूर ना करो मुझे,
पूरी तरह बदल जाऊं,
इतना भी मजबूर मत करो मुझे।

अगर उन्हेंजाना है तो जाने दो,
क्यों पकड़ कर रखना हैं,
रिश्तों में प्यार अच्छा लगता हैं,
भीख नहीं।

Meaningful Gulzar Quotes On Life

हम तो समझे थे कि हम भूल गए हैं उनको,
क्या हुआ आज ये किस बात पे रोना आया?

एक सपने के टूटकर चकनाचूर हो जाने के बाद,
दूसरा सपना देखने के हौसले का नाम जिंदगी हैं।

कभी फुर्सत मिले तो,
उनका हाल भी पूछ लिया करो,
जिनके सीने में दिल की जगह,
तुम धड़कते हो।

भूलने की कोशिश करते हो,
आख़िर इतना क्यों सहते हो,
डूब रहे हो और बहते हो,
दरिया किनारे क्यों रहते हो।

मयखाने सभी बंद है आज,
दिलजलों के लिए यह कैसी सजा है,
ए गुलजार तू ही कुछ लिख दे आज,
सुना है एक एक शब्द में तेरे,
सो बोतलों का नशा है।

बहुत मुश्किल से करता हूँ तेरी यादों का कारोबार,
मुनाफा कम है लेकिन गुज़ारा हो ही जाता है।

बहुत खुश नसीब होते हैं,
वो लोग जिनका प्यार,
उनकी क़दर भी करता हैं,
और इज्ज़त भी।

टकरा के सर को जान न दे दूं तो क्या करूं,
कब तक फ़िराक-ए-यार के सदमे सहा करूं,
मै तो हज़ार चाहूँ की बोलूँ न यार से,
काबू में अपने दिल को न पाऊं तो क्या करूं।

शाम से आँख में नमी सी है,
आज फिर आप की कमी सी है,
दफ़्न कर दो हमें के साँस मिले,
नब्ज़ कुछ देर से थमी सी है।

कोई पूछ रहा है मुझसे मेरी जिंदगी की कीमत,
मुझे याद आ रहा है तेरा हल्के से मुस्कुरा देना।

ना जाने कैसी ये महोबत,
है तुझसे बात नही होती,
फ़िर भी दिल को फिक्र,
बस तेरी हैं।

यूँ तो रौनकें गुलज़ार थी महफ़िल, उस रोज़ हसीं चहरों से,
जाने कैसे उस पर्दानशी की मासूमियत पर हमारी धड़कने आ गई।

कुछ सुनसान पड़ी है ज़िंदगी,
कुछ वीरान हो गए है हम,
जो हमें ठीक से जान भी नहीं पाया,
खामखां उसके लिए परेशान हो गए है हम।

ये माना इस दौरान कुछ साल बीत गए हैं,
फिर भी आँखों में चेहरा तुम्हारा समाये हुए है,
किताबों पे धूल जमने से कहानी कहाँ बदलती है।

जो बीत गया है वो अब दौर न आएगा,
इस दिल में सिवा तेरे कोई और न आएगा,
घर फूंक दिया हमने, अब राख उठानी है,
जिंदगी और कुछ नही, तेरी मेरी कहानी है।

सांस मौसम कि भी कुछ देर को चलने लगती,
कोई झोंका तेरी पलकों कि हवा का होता।

महफ़िल में गले मिलकर वह धीरे से कह गए,
यह दुनिया की रस्म है, इसे मुहोब्बत मत समझ लेना।

कुछ कस्में हैं जो हम आज भी निभा रहे हैं,
तुम्हें चाहते थे और तुम्हें ही चाह रहे हैं।

माफ़ी से कुछ नही होता,
कुछ बातें दिल को,
लग जाती है जो कभी,
भुलाई नहीं जाती।

लाज़मी है मेरा भी गुरुर करना,
मुझे उसने चाह था,
जिसके चाहने वाले हज़ार थे।

मीलो का सफर,
पल में बर्बाद कर गया,
उसका ये कहना कहो कैसे आना हुआ।

झुकी हुई निगाह में, कहीं मेरा ख्याल था,
दबी दबी हँसी में इक, हसीन सा गुलाल था,
मै सोचता था, मेरा नाम गुनगुना रही है वो,
न जाने क्यूं लगा मुझे, के मुस्कुरा रही है वो।

मैं हर रात सारी ख्वाहिशों को खुद से पहले सुला देता,
हूँ मगर रोज़ सुबह ये मुझसे पहले जाग जाती है।

तारीफ़ अपने आप की करना फ़िज़ूल है,
ख़ुशबू तो ख़ुद ही बता देती है,
कौन सा फूल है।

कुछ अलग करना हो तो,
भीड़ से हट के चलिए,
भीड़ साहस तो देती हैं,
मगर पहचान छिन लेती हैं।

तुम बहुत बिखरे से लग रहे हो,
तुम एक बार खुद को समझ कर तो देखो,
जिंदगी भी गुलजार होगी बस एक बार,
दुख में भी मुस्कुरा कर तो देखो।

आज मुझसे पूछा किसी ने कयामत का मतलब,
और मैंने घबरा के कह दिया तेरा रूठ जाना।

जो चीज़ वक़्त पर ना मिले वह बाद में मीले,
या ना मिले कोई फर्क नही पड़ता।

ऐसे जियो कि अपने मां-बाप को पसंद आ सको,
दुनिया की पसंद तो पल भर में बदल जाती है।

इश्क़ में इसिलिये धोखा खाने,
लगे है लोग, दिल की जगह,
जिस्म को चाहने लगें हैं।

जो दूरियों से कायम रहा,
वो एक रिश्ता दिल का गुलजार रहे,
इश्क में हम डूबते गए तेरे,
कभी इस बार तो कभी उस पार रहे।

ऐसे ही नहीं बन जाते गैरों से गहरे रिश्ते,
कुछ खालीपन अपनों ने ही दिया होगा।

सबके दिलों में धड़कना ज़रूरी नहीं होता साहेब,
कुछ लोगो की आँखों में खटकने का भी,
एक अलग मज़ा है।

बचपन में भरी दुपहरी में,
नाप आते थे पूरा मोहल्ला,
जब से डिग्रियां समझ में आई,
पाँव जलने लगे।

उड़ते पैरों के तले जब बहती है जमीं,
मुड़के हमने कोई मंज़िल देखी तो नही,
रात दिन हम राहों पर शामो सहर करते हैं,
राह पे रहते हैं यादों पे बसर करते हैं।

ज़िन्दगी हर पल ढलती है, जैसे रेत मुट्ठी से फिसलती है,
शिकवे कितने भी हो किसी से, फिर भी मुस्कराते रहना,
क्योंकि ये ज़िन्दगी जैसी भी है, बस एक ही बार मिलती है।

उम्मीद करते है की, आपको यह हमारा गुलज़ार कोट्स हिंदी में आपको जरूर पसंद आया होगा। आप हमारा यह लेख अपने मित्रो के साथ साझा कर सकते है, और हमें कमेंट में बता सकते है आपको हमारा यह लेख कैसा लगा।

gulzar quotes

deep gulzar quotes

reality gulzar quotes on life

zindagi gulzar quotes

gulzar quotes in hindi

life deep gulzar quotes

meaningful gulzar quotes on life

2 line deep meaning reality gulzar quotes on life

romantic gulzar quotes

gulzar quotes on life

zindagi gulzar hai quotes

quotes on smile in hindi by gulzar

gulzar quotes hindi

gulzar quotes on love

inspirational deep gulzar quotes

gulzar motivational quotes in hindi

loneliness reality gulzar quotes on life

gulzar love quotes in hindi

Leave a Comment